उसी का शहर था उसी की अदालत।

उसी का शहर था उसी की अदालत।
वो ही था मुंसिफ उसी की वक़ालत।।
,
फिर होना था वो ही होता है अक्सर।
हमी को सजाएं हमी से ख़िलाफ़त।।
,
ये कैसा सहर है क्यू उजाला नहीं है।
अब अंधेरों से कैसे करेंगें हिफ़ाजत।।
,
चिरागों का जलना आसान नहीं था।
हवाओं ने रखा है उनको सलामत।।
,
तुमको फिक्र है न हमकों है फुरसत।
न है कोई मसला न कोई शिकायत।।
,
साहिल भँवर में है जिंदा अभी तक।
ये उसका करम है उसी की इनायत।।

#रमेश


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

2 Comments

  1. Onyiro Promise - August 1, 2017, 3:56 pm

    I am Suvo Sarkar of Emirates NBD bank. I wish to share a business proposal with you, it is in connection with your last name. Please contact me on my email at (sarkarsuvo611@gmail.com) so that i will get back to you soonest.

  2. Profile photo of सीमा राठी

    सीमा राठी - June 24, 2017, 12:38 pm

    Nice

Leave a Reply