उम्र की पतंगें !

कविता
 
उम्र की पतंगें
: अनुपम त्रिपाठी
 
वे, बच्चे !
बड़े उल्हास से
चहकते—मचलते; पतंग उड़ाते
…………. अचानक थम गए !!
 
उदास मन लिए
लौट चले घर को
———— पतंग छूट जाने से
———— डोर टू…ट जाने से
 
क्या, वे जान सकेंगे ?
कभी कि; ————
हम भी बिखेरा करते थे, मुसकानें यूं ही
: चढ़ती उम्र के; बे—पनाह जोश में .
 
मगर;——-
गुमसुम हैं, आज !
समय की रंगीन—अमूल्य पतंग; छूट जाने पर
अभिलाषा के अंत—हीन आकाश में ———–
—————–उम्मीद की डोर; टू…ट जाने पर .
 
‘वे’, तो खरीद लायेंगे
कल फिर,
कई उमंगें—–नई पतंगें
पर, क्या करें “हम” ????
******______******
#anupamtripathi #anupamtripathiK

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Related Posts

कविता — व्यक्ति–विशेष

‘ क्या यह सच नहीं !’

अ–परिभाषित सच !

नाक का नक्कारख़ाना — हास्य

2 Comments

  1. Onyiro Promise - August 1, 2017, 3:41 pm

    I am Suvo Sarkar of Emirates NBD bank. I wish to share a business proposal with you, it is in connection with your last name. Please contact me on my email at (sarkarsuvo611@gmail.com) so that i will get back to you soonest.

  2. Profile photo of सीमा राठी

    सीमा राठी - May 29, 2017, 11:20 pm

    nice one sir

Leave a Reply