आश

आश

बैठे है अकेले राह में, दिल में कोई आश है ,

घडी की बदलती सुइयो के _सही होने का इन्तजार है ,

कुछ कदम बढाने है ,और ये सुनसान राह पार है ,

फिर करवट हम भी बद्लेगे ,क्योकि ….

राह के पार खुशहाल संसार है ,

किसी के हाथो में हाथ है ,

तो कही भरा पूरा परिवार है !

   – सचिन सनसनवाल

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

अब जितने भी अल्फाज है , मेरी कलम ही मेरे साथ है |

2 Comments

  1. Sridhar - May 6, 2017, 8:15 pm

    bahut khoob

Leave a Reply