आपकी नज़रे इनायत

मतला ….
हो बला की खूबसूरत क्या गजब की बात है
खो गया हूँ हुस्न में ये तो सुहानी रात है

आप से मिल कर के अब भी ये ही लगता है मुझे
हो गयी मुझको मोहब्बत आप में क्या बात है

आइना कहने लगा है अक्स क्यों फीके से हैं
हूँ अगर मैं अक्स तो क्यूँ देखता जज्बात हैं

हो सके तो आप भी आना कभी मेरी तरफ
हैं घटायें झूमती और हो रही बरसात है

ख्वाब भी देखें हैं हमने रात को कुछ इस तरह
आप की नजरे इनायत हो सके तो बात है

…..आभा

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

By Abha

Related Posts

1 Comment

  1. Profile photo of Dev Kumar

    Dev Kumar - January 5, 2017, 3:16 pm

    Bahut Khoob Abha Ji

Leave a Reply