आदत

तुम्हारी मुस्कान जब बनी मेरी आदत..
तुम बने मेरी क़यामत तक की इबादत..
यादों की लहरें जब बनीं मेरा सहारा..
डूबती रही जान, दूर हुआ किनारा..


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Leave a Reply