आज ज़िंदगी उस मुक़ाम पर हैं

आज ज़िंदगी उस मुक़ाम पर हैं

जहाँ दिल के टुकड़े हो गये

औऱ

ख़्वाब मुक़म्मल हो रहे हैं…

राजनंदिनी रावत
रावत-राजपूत

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Mithilesh Rai - May 11, 2018, 9:18 pm

    बेहतरीन

  2. Akhilendra Tiwari - May 12, 2018, 3:59 pm

    बहुत खूब sister

Leave a Reply