आजादी

आजादी

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाये।

गुलामी में भी हमारे दिल में देश की शान काफी थी,

तोड़ देते थे होंसला अंग्रेजो का हममे जान काफी थी,

पहनते थे कुर्ता और पाजामा खादी की पहचान काफी थी,

गांधी जी के मजबूत इरादों की मुस्कान काफी थी,

आजाद भारत देश को स्वतंत्र भाषा विचार को,

लड़ कर मर मिट जाने की तैयार फ़ौज काफी थी,

गुलामी की जंजीरों से जकड़े रहे हर वीर में,

स्वतंत्र भारत माँ को देखने की तस्वीर काफी थी॥

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

रो देता है मन मेरा भी!!

Prasoon Joshi’s Powerful Poem For The Daughters

Prasoon Joshi’s Powerful Poem For The Daughters

आजादी

मेरे भारत का झंडा तब बिन शोकसभा झुक जाता है

3 Comments

  1. Simmi garg - August 15, 2016, 1:07 pm

    bahut khoob ji

  2. Ajay Nawal - August 15, 2016, 4:20 pm

    kaabil e taarif 🙂

Leave a Reply