आग की तरह

तुम मुझे अपनी वाणी से हताहत कर सकते हो
अपनी गंदी नजरों से मुझे काट सकते हो
अपनी नफ़रत से मुझे मार सकते हो
लेकिन मैं हर बार ऊठूंगी
आग की तरह

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Girl full of emotions!

7 Comments

  1. Ashok babu Mahour - March 8, 2018, 10:28 am

    बढ़िया

  2. . - March 8, 2018, 10:52 am

    वाहः

  3. DV - March 8, 2018, 12:39 pm

    ज़िंदगी में कभी हार ना मानना ही जीने की कला है… nicely penned..

  4. राही अंजाना - July 31, 2018, 11:15 pm

    Waah

Leave a Reply