आओ धरती पे चरण रखो पाथ॔

✍🌹 गजल 🌹✍
——-($)——-

आओ धरती पे चरण रखो पाथ॔
संत साधुओ को तारो निस्वार्थ

बिलखता पल विषाक्त क्षण मे
विषैले हवाओ को टारो साक्षाथ॔

छल-बलयुक्त विकृत इस दौर मे
दिखाओ अपना सच्चा पुरुषार्थ

हो बसुंधरा के तुम ही पुत्र सपूत
चले आओ धर वीरता गुणाथ॔

सत-सज्जनो की सुनो आवाज
सिसकती धरती पे करो कृतार्थ

ईमान और बेईमानी के इस रण मे
ऊठा गांडीव करने आओ परमाथं

श्याम दास महंत
घरघोडा
जिला-रायगढ (छग )
✍🌹🙏🏻🌹✍

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply