आंसू


Users who have voted this poem:

  • avatar

रहता है कहाँ है कहाँ घर तेरा,

नाम आंसु से परिचय हुआ क्यों तेरा,

ख़ुशी-ग़म का आँखों से रिश्ता तेरा,

हर इंसा से नाता जुड़ा क्यों तेरा,

समझ के रंग सा न किसी अंग सा,

यूँ रूप पानी के जैसा बना क्यों तेरा॥
राही (अंजाना)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply