आंखें मे ख्वाबो को सजाने की

एक और ग़लत
आंखों में ख्वाबो को सजाने की ” रहस्य ” देवरिया

आंखों मे ख्वाबो को सजाने की हिमाकत ना करते।
काश दिल में किसी को बसाने की हिम्मत ना करते।।
%%%%%%%

कबूल कहा होती है अब यहां हर किसी की फरियादे।
खुदा के दरबार कभी कोई भी हम मिन्नत ना करते।।
%%%%%%%

तकलीफ तो कम्बख्त सायद जिन्दगी ही देती है यहा।
पहले पता कहा था वर्ना जिने की चाहत ना करते।।
%%%%%%%

आंखों में ख्वाबो को सजाने की हिमाकत ना करते %

” रहस्य ” देवरिया

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Mithilesh Rai - May 11, 2018, 9:20 pm

    Very good

Leave a Reply