आंखें मजबुर थी मेरी ” रहस्य ” देवरिया

हंसकर अपने दर्द छुपाने की कारिगरी मसहूर थी मेरी ।
चाहकर भी कभी रो ना सकी आंखे सजबूर थी मेरी ।।

सजती रही महेफिले बेशक ही अब औरो की शाम मे ।
हां मगर ये भी तो सच है वो शमा कभी जरूर थी मेरी ।।

” रहस्य ” देवरिया

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Anjali Gupta - April 21, 2018, 1:08 pm

    nice one

  2. Sridhar - April 21, 2018, 4:29 pm

    kya baat he

Leave a Reply