आँखों से बहता पानी…

आँखों से बहता पानी…

आँखों से बहता पानी
कहाँ एक सा होता है

कभी खुद के लिए रोता है,
कभी खुदा के लिए रोता है !

कभी कुछ पा के रोता है ,
कभी कुछ खो के रोता है !

कभी किसी की यादो मे रोता है ,
कभी किसी को याद करके रोता है !

कभी खतों मे रोता है ,
कभी ख़ता करके रोता है !

कभी आँखो से पानी टपकाकर रोता है ,
कभी दिल मे छुपकर रोता है !

रोता है जब भी दर्द का
अहसास कराकर रोता है !

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

1 Comment

  1. Profile photo of Anil Goyal

    Anil Goyal - June 3, 2017, 5:13 pm

    बहुत अच्छा लिखा है

Leave a Reply