आँखों से गमों की बारिश में छाता

आँखों से गमों की बारिश में छाता
लेकर ज्यों ही घर से निकले हम
राह में कुछ लोगों को कहते सुना
अच्छे दिन आयेंगे बारिश थम गयी
🌿🌴रीता जयहिंद 🇮🇳🌴🌿☔❤की🖍से💐

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 
सावन का लक्ष्य है, कविता के लिए एक मंच स्थापित करना, जिस पर कविता का प्रचार व प्रसार किया जा सके और मानवता के संदेश को जन-जन तक पहुंचाया जा सके| यदि आप सावन की इस उद्देश्य में मदद करना चाहते है तो नीचे दिए विज्ञापन पर क्लिक करके हमारी आर्थिक मदद करें|

 

Related Posts

अब कल क्या लिखूंगी मै यही सोच के

मेरे प्यार को मुझे से चुरा लिया किसी

क्रोध की अग्नि में तपकर गरम हुआ दिमाग

नारी के प्रति पुरुष की सोच

Leave a Reply