अर्जुन

✍🌹 अर्जुन 🌹✍

अ– अन्याय /अनैतिकता विरोधी
न्याय नैतिकता संपोषक ।।
र– रक्षक मानवीय संवेदना
सव॔धर्म समभाव संरक्षक ।।
जु — जुझारू कम॔शील न्यायिक
मानवता समरसता घोषक।।
न– नमनीय जीवन चरित्र बनाके
परमार्थ का पथ प्रदर्शक ।।

“”उद्घोषक “” ✍🌹श्याम दास महंत 🌹✍

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. ashmita - March 31, 2018, 4:41 pm

    nice

Leave a Reply