अभिवादन

मित्र अपना यह अभिवादन ,
बहुत मन को सुहाता है ।
आँख जैसे ही खुलती है ,
तुम्हारा ध्यान आता है ।
मै ईश्वर से भी पहले ,बस
तुझे ही याद करता हूँ ,
तू जीवन के अँधेरों में ,
मुझे रस्ता दिखाता है ।
****जानकीप्रसाद विवश **

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Yogi Nishad - December 30, 2017, 5:41 pm

    मित्र अपना यह अभिवादन ,
    बहुत मन को सुहाता है ।
    अतिसुन्दर

Leave a Reply