अब कल क्या लिखूंगी मै यही सोच के

अब कल क्या लिखूंगी मै यही सोच के
डर जाती हूं ,,,,,,,
फिर नये गमो से वास्ता होगा इसी उम्मीद में हर रात मै पुराने दर्द का
कफ़न ओढ़ क्र सो जाती हूँ🎤®®

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Related Posts

मेरे प्यार को मुझे से चुरा लिया किसी

क्रोध की अग्नि में तपकर गरम हुआ दिमाग

आँखों से गमों की बारिश में छाता

नारी के प्रति पुरुष की सोच

Leave a Reply