“अधुरी मोहोब्बत”……

ये गमो की दौलत तेरी अधुरी मोहोब्बत ने बक्शी हैं
वरना हम क्या थे, हमारी ज़िन्दगी क्या थी, और हमारी सक्शियत क्या थी…..!!

देव कुमार

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Mithilesh Rai - June 12, 2018, 2:56 pm

    बेहतरीन

  2. देव कुमार - June 12, 2018, 3:11 pm

    Thanku so much Mithlesh ji

Leave a Reply