अदब से झुकने की कला भूल गए

अदब से झुकने की कला भूल गए

अदब से झुकने की कला भूल गए,

मेरे शहर के लोग अपना गुनाह भूल गए,

भटकते नहीं थे रास्ता कभी जो अपना,

आज अपने ही घर का पता भूल गए,

महज़ चन्द पैसों की चमक की खातिर देखो,

यहां अपने ही अपनों की पहचान भूल गए।।

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply