अच्छे दिन…!

अच्छे दिन…!

अच्छे लोग तो
खुश हो ही रहे हैं
अच्छे दिनों से ..!.

आशा बहुत
अच्छा जो हो रहा है
और भी होगा…!

बुरे लोगों के
बुरे दिन आये हैं
बरबादी के …!

ना सुधरेंगे
फंसे हुए जो हैं ये
घूस लेकर …!

सजा मिलेगी
लूटा देश जिन्होंने
उन्हें जरूर ..!

देश भक्ति के
दिन अब आये हैं
खुशहाली के ..!

” विश्वनंद”

An attempt at Haiku in Hindi (5,7,5).

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Retired Senior Engg Exec. Interest in poetry, songs, music. Composes & sings his own poems/songs as hobby/passion. Plays Harmonium. Location: Pune, Mumbai

3 Comments

  1. Vinita Shrivastava - July 4, 2018, 1:25 pm

    waah,sundar 🙂

  2. Vijayanand V Gaitonde - July 5, 2018, 1:55 pm

    Hardik Dhnyavaad…!

  3. Vijayanand V Gaitonde - July 5, 2018, 1:57 pm

    Hardik Dhanyavaad

Leave a Reply