अंक सात का ईश्वरीय खेल

ईश्वर ने भी अंक सात को
बड़ा ही शुभ बनाया है
सात दिनों में इस जगत का
सुन्दर निर्माण कराया है
संग सात फेरों के लेकर
रिश्ते वचन निभाते हैं
सात दिनों के एक सप्ताह का
सुन्दर मेल बनाया है
इंद्रधनुष में सात रंग का
अद्भुद खेल रचाया है
वही सात सुरों से मिलाकर
मधुर संगीत बनाया है
सात ही हैं अच्छाई जगत में
और सात ही हैं बुराई
सात ही हैं पूजनीय हमारे
सात ही हैं इंसानी बुराई।।

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

By Neha

6 Comments

  1. राही अंजाना - July 8, 2018, 8:15 pm

    Waah

  2. shuklawatsushma - July 9, 2018, 8:37 am

    Nice

  3. ज्योति कुमार - July 9, 2018, 9:19 am

    बहुत खुब

Leave a Reply