“इंसाँ की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं
दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद”
– कैफ़ी आज़मी

 

2600+ Poets 6.5k Poems 14k Comments


सर्वश्रेष्ठ कवि सूची

कविता प्रकाशित करने के लिए यहां क्लिक करें |


Poetry Hub 

 

Latest Activity

 

सावन पर हिन्दी लेखक बनें|