Welcome to Saavan

कविता प्रकाशित करने के लिए यहां क्लिक करें |

1000+ Poets 4.7k Poems 8.8k Comments

सावन की गूगल प्ले से ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें |


New Poems

मुक्तक

मुक्तक

कुछ लोग जिन्दगी में यूँ ही चले आते हैं! कुछ लोग वफाओं को यूँ ही भूल जाते हैं! कई लोग तड़पते हैं किसी की जुदाई में, कुछ किसी के दर्द पर यूँ ही मुस्कुराते हैं! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

मैं जिन्दगी में मंजिले-मुकाम तक न पहुँचा! मैं जिन्दगी में प्यार के पयाम तक न पहुँचा! यादों की डोर से बंधा हूँ आज भी मगर, मैं अपनी चाहतों के अंजाम तक न पहुँचा! रचनाकार – #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

किसतरह तेरी यादों की रात जाएगी? किसतरह तेरे गम की सौगात जाएगी? जागे हुए हैं ख्वाब भी आँखों में कबसे, कब तेरी चाहत से मुलाकात जाएगी? मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

unhe shoukh hai

5 »

मुक्तक

मुक्तक

तेरी उम्र तन्हाई में गुजर न जाए कहीं! तेरी जिन्दगी अश्कों में बिखर न जाए कहीं! क्यों इसकदर मगरूर हो तुम अपने हुस्न पर? कोई गम कभी दामन में उतर न जाए कहीं! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

हमारा सहयोगी 

Storieo l